कमल का फूल….. डॉ मुहम्मद सौदागर

कमल का फूल….. डॉ मुहम्मद सौदागर
बालों को काला करें ( makes Hair Black ) : जब भी कभी आपको लगे कि आपके बाल सफ़ेद होने लगे है या सारे बाल सफ़ेद भी हो चुके हो तब भी आप 500 से 600 ग्राम कमल के फूलों का इंतजाम करें, उन्हें एक हांडी में डाले और फूलों में गाय का दूध मिलाएं. अब आप इस हांडी को करीब 1 महीने के लिए जमीन में गाद दें. तत्पश्चात आप हांडी को निकालें और रोजाना इसे अपने सिर पर तेल की तरह लगाएं. ध्यान रहे कि 2 ½ घंटे बाद आपको अपना सिर भी अवश्य धोना है. इस उपाय को करीब 1 माह तक अपनाएँ. आपके बाद पहले की तरह काले और घने होने आरम्भ हो ·
स्वपन दोष ( Wet Dreams ) : जवानी में अक्सर बच्चे आकर्षण में आ जाते है और वहीँ आकर्षण सोते वक़्त भी उनके दिमाग में रहता है. इसलिए जब वे सपने देखते है तो स्वपन दोष का शिकार हो जाते है. ये बहुत बुरी बिमारी है क्योकि इससे आपके शरीर की सारी ताकत निकल जाती है और आप कमजोर होने लगते हो. किन्तु आप कमल की जड़ों को सुखाकर उनका पाउडर बनायें और रोजाना इस चूर्ण की 4 ग्राम की मात्रा को पानी के साथ ग्रहण करें. करीब 1 माह तक आप इस उपाय को नियमानुसार अपनायें, इसे आपके शरीर की ताकत भी बढ़ेगी और आपको स्वपन दोष से भी मुक्ति मिलेगी. ·
उल्टी ( Vomiting ) : उल्टी होने का मुख्य कारण विशुद्ध आहार या दूषित आहार होता है. इसलिए हमेशा ताजा और पौष्टिक भोजन ही करना चाहियें किन्तु अगर आप उल्टी से परेशान है तो आप कमाल के कुछ बीज लें और उन्हें तवे पर अच्छी तरह भुनें. अब आप बीजों को छिलें, इनके अंदर आपको एक सफ़ेद भाग मिलेगा. इस सफ़ेद भाग को आप पिस लें और शहद मिलाकर खा जाएँ, तुरंत आपको उल्टी आनी बंद हो जायेगी. ·
आकर्षक स्तन ( Attractive Breast ) : अक्सर जब महिलायें माँ बन जाती है तो स्तनपान की वजह से उनके स्तन ढीले पड जाते है. ये उनकी सुंदरता में कमी लाता है, किन्तु महिलायें अपने स्तनों को दुबारा से गोल, नर्म और सुडौल बनाने के लिए कमल के बीजों का प्रयोग कर सकती है. इनका इस्तेमाल करने के लिए उन्हें कमल के 500 ग्राम बीजों को पीसकर एक शीशी में रख लेना चाहियें और रोजाना 5 से 6 ग्राम की मात्रा में गाय के दूध के साथ सेवन करना चाहियें. मात्रा 2 माह के बाद ही उनके स्तन पहले से भी अधिक आकर्षक और हष्ट पुष्ट हो जायेगे. महिलाओं के स्तनों का स्वस्थ होना जरूरी भी है क्योकि ये उनके शरीर का सबसे महत्वपूर्ण और आकर्षक अंग है. ·
गर्भस्त्राव ( Miscarriage ) : ये एक अजीब सा रोग है क्योकि कोई भी महिला नहीं चाहती कि उनका बार बार गर्भ स्त्राव हो, इसलिए वे पूरी सावधानी से गर्भधारण करती है किन्तु फिर भी उनको स्त्राव हो जाता है. इस समस्या से तुरंत निजात पाने के लिए आप कमल की नाल और नागकेसर को सुखा लें और उनको पीसकर पाउडर बनायें. आप इस मिश्रण को गाय के दूध के साथ रोजाना ग्रहण करें. आपकी गर्भ स्त्राव की समस्या शत प्रतिशत ·
खुनी बवासीर ( Bloody Piles ) : बवासीर का नाम सुनते ही लोगों में भय उत्पन्न हो जाता है और जब बात खुनी बवासीर की हो तो आप समझ ही सकते है कि ये रोग पीड़ित का क्या हाल करता होगा. लेकिन खुनी बवासीर की शिकायत वाले लोगों के लिए कमल की केसर बहुत अधिक लाभदायी होती है. इसलिए इन्हें ½ ग्राम कमल की केसर में थोडा मक्खन और चीनी मिलाकर ग्रहण करना चाहियें. करीब 1 सप्ताह इसका नियमित रूप से इस्तेमाल ही आपको सार्थक परिणाम देगा. किन्तु इसका ये अर्थ नहीं है कि आप इसे मात्र 1 सप्ताह तक ही लें बल्कि आप इस उपाय को तब तक अपनाएँ जब तक आप बवासीर से पूरी तरह से मुक्त नही हो जाते. ·
हार्ट अटैक ( Heart Attack ) : बढता कोलेस्ट्रॉल, तनाव, रक्त विकार और अनियमित व तला खाना हृदय को नुकसान पहुंचाता है. किन्तु कमल का फुल हृदय रोगियों के लिए एक अमृत की तरह होता है. वे कमल के फुल के साथ मुलेठी, सफ़ेद चन्दन और नागरमोथा मिलाकर उनका पाउडर बनायें और एक दवा तैयार करें. इस दवा का दिन में 2 बार पानी या दूध के साथ सेवन करने से सभी तरह के हृदय रोग और हार्ट अटैक जैसी समस्या उत्पन्न ही नहीं होती. वैसे आप इस दवा का निर्माण खुद ना करते हुए किसी अच्छे वैद से ही करायें क्योकि इसमें सभी चीजों की मात्रा का ध्यान में रखना बहुत ·
चर्म रोग ( Skin Diseases ) : त्वचा रोग होने पर भी कमल की जल लें और उसे पानी के साथ घिसते हुए एक लेप तैयार करें. इस लेप को आप अपने शरीर के उन स्थानों पर लगाएं जहाँ आपको चर्म रोग है. कुछ दिन इसी तरह इसका इस्तेमाल आपको नयी त्वचा प्रदान करता है और सभी चर्म रोग दूर करता है

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *