यादें……ममता गैरोला

Mamta Gairola , New Delhi

यादें……ममता गैरोला 

तैर कर निकल जाती है यादें ,थाह नहीं भरती
वक़्त के दरिया में अब ,वो मुस्कराहट नहीं मिलती,
बच्चों के खिलौने भी किसी ताख पर सजते है
चाहते हुए अब वो बेफिक्री राह नहीं मिलती,
हर कदम जैसे सौदाए बाजार में खड़े मिलते हैं ,
जज्बात भी जैसे व्यापार से सजे खिलते हैं,,,,
फासले सिर्फ दीवारों में नहीं दिल में भी उतर आये हैं
सिर्फ चौंधियाहट बाहर से सजने सवरने की
दिलों में ख़ामोशी के गहरे साए हैं ,,
अजनबियत सी हो गई,अपने ही किरदार में जैसे
निस्बतें सूरत में भी,वो रवायत नहीं मिलती,,
घोल दो कोई तो शहरों की तपन में फिजा ऐसी,
क़ि चाहते हुए अब वो बेफिक्री राह नहीं मिलती,
क़ि चाहते हुए अब वो बेफिक्री राह नहीं मिलती !!!

ममता गैरोला ,,,,

22 Comments

  1. 50684 559680Youre so cool! I dont suppose Ive read anything such as this before. So good to get somebody with some original thoughts on this topic. realy we appreciate you starting this up. this fabulous site are some items that is required on the internet, somebody with slightly originality. beneficial function for bringing a new challenge on the world wide internet! 613676

  2. 987665 329648The next time I just read a weblog, I really hope which it doesnt disappoint me up to this one. Get real, Yes, it was my choice to read, but I personally thought youd have something intriguing to convey. All I hear can be a handful of whining about something you could fix within the event you werent too busy trying to locate attention. 935441

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *