अगले जन्म मुझे बिटिया न देना…नन्दनी बर्थवाल , नई दिल्ली

अगले जन्म मुझे बिटिया न देना…नन्दनी बर्थवाल , नई दिल्ली माँ बहुत दर्द देकर बहुत दर्द सहकर तुझसे कुछ कहकर ,में जा रही हूँ आज मेरी विदाई में सब सखिया…

आरजू- राकेश वर्मा, जम्मू

आरजू- राकेश वर्मा, जम्मू कब चाहा था मैंने की तुम मुझे चाहो, कब कहा था की तुम मुझे सराहो, फिर भी तुम आगे बढती रही, मेरे अरमानों में सजती रहीं,…

Poem- Jai Praksh Tripathi , New Delhi

Poem- Jai Praksh Tripathi , New Delhi खुशियों के ये सारे रस्ते मेरे हैं, जग के सब दुखियारे रस्ते मेरे हैं। मैं समस्त सुबहों-शामों में शामिल हूं, मैं जन-मन के…