हरेला– नन्दनी बर्थवाल, नई दिल्ली

हरेला– नन्दनी बर्थवाल, नई दिल्ली

उत्तराखंड अपनी संस्कृति के लिए सदा ही व्याख्यात रहा है, यहाँ तरह तरह के त्योहार इसकी संस्कृति को लोकप्रिय बनाते हैं। हर त्योहार का अपना महत्त्व है। आज हम श्रावण मास में मनाए जाने वाले त्योहार हरेला की बात कर रहे हैं। हरेला पर्व नई ऋतु के आने का सूचक चैत्र मास की शुरुआत का प्रतीक है, यह पर्व चैत्र मास की नवमी को मनाया जाता ह जो सावन माह में होता है। उत्तराखण्ड कृषि प्रधान प्रदेश है इसलिए ऋतु अदारित पर्व मनाने की परंपरा यहाँ देखने को मिलती है। श्रावण मास के हरेले के दिन शिव-परिवार की मूर्तियां भी गढ़ी जाती हैं, जिन्हें डिकारे कहा जाता है। शुद्ध मिट्टी की आकृतियों को प्राकृतिक रंगों से शिव-परिवार की प्रतिमाओं का आकार दिया जाता है और इस दिन उनकी पूजा की जाती है। हरेला शब्द का स्रोत हरियाली से है, पूर्व में इस क्षेत्र का मुख्य कार्य कृषि होने के कारण इस पर्व का महत्व यहां के लिये विशेष रहा है। हरेले के पर्व से नौ दिन पहले घर के भीतर स्थित मन्दिर में या ग्राम के मन्दिर के भीतर सात प्रकार के अन्न (जौ, गेहूं, मक्का, गहत, सरसों, उड़द और भट्ट) को रिंगाल की टोकरी में रोपित कर दिया जाता है। इससे लिये एक विशेष प्रक्रिया अपनाई जाती है, पहले रिंगाल की टोकरी में एक परत मिट्टी की बिछाई जाती है, फिर इसमें बीज डाले जाते हैं। उसके पश्चात फिर से मिट्टी डाली जाती है, फिर से बीज डाले जाते हैं, यही प्रक्रिया ५-६ बार अपनाई जाती है। इसे सूर्य की सीधी रोशनी से बचाया जाता है और प्रतिदिन सुबह पानी से सींचा जाता है। ९ वें दिन इनकी पाती (एक स्थानीय वृक्ष) की टहनी से गुड़ाई की जाती है और दसवें यानि कि हरेले के दिन इसे काटा जाता है। काटने के बाद गृह स्वामी द्वारा इसे तिलक-चन्दन-अक्षत से अभिमंत्रित (“रोग, शोक निवारणार्थ, प्राण रक्षक वनस्पते, इदा गच्छ नमस्तेस्तु हर देव नमोस्तुते” मन्त्र द्वारा) किया जाता है, जिसे हरेला पतीसना कहा जाता है। उसके बाद इसे देवता को अर्पित किया जाता है, तत्पश्चात घर की बुजुर्ग महिला सभी सदस्यों को हरेला लगाती हैं। लगाने का अर्थ यह है कि हरेला सबसे पहले पैरो, फिर घुटने, फिर कन्धे और अन्त में सिर में रखा जाता है और आशीर्वाद स्वरुप यह पंक्तियां कहीं जाती हैं। जी रये, जागि रये धरती जस आगव, आकाश जस चाकव है जये सूर्ज जस तराण, स्यावे जसि बुद्धि हो दूब जस फलिये, सिल पिसि भात खाये, जांठि टेकि झाड़ जाये। {अर्थात-हरियाला तुझे मिले, जीते रहो, जागरूक रहो, पृथ्वी के समान धैर्यवान,आकाश के समान प्रशस्त (उदार) बनो, सूर्य के समान त्राण, सियार के समान बुद्धि हो, दूर्वा के तृणों के समान पनपो,इतने दीर्घायु हो कि (दंतहीन) तुम्हें भात भी पीस कर खाना पड़े और शौच जाने के लिए भी लाठी का उपयोग करना पड़े।} इस पूजन के बाद परिवार के सभी लोग साथ में बैठकर पकवानों का आनन्द उठाते हैं, इस दिन विशेष रुप से उड़द दाल के बड़े, पुये, खीर आदि बनाये जाने का प्रावधान है। घर में उपस्थित सभी सदस्यों को हरेला लगाया जाता है, साथ ही देश-परदेश में रह रहे अपने रिश्तेदारो-नातेदारों को भी अक्षत-चन्दन-पिठ्यां के साथ हरेला डाक से भेजने की परम्परा है। वैसे तो हरेला घर-घर में बोया जाता है, लेकिन किसी-किसी गांव में हरेला पर्व को सामूहिक रुप से द्याप्ता थान (स्थानीय ग्राम देवता) में भी मनाये जाने का प्रावधान है। मन्दिर में हरेला बोया जाता है और पुजारी द्वारा सभी को आशीर्वाद स्वरुप हरेले के तिनके प्रदान किय जाते हैं। यह भी परम्परा है कि यदि हरेले के दिन किसी परिवार में किसी की मृत्यु हो जाये तो जब तक हरेले के दिन उस घर में किसी का जन्म न हो जाये, तब तक हरेला बोया नहीं जाता है। एक छूट भी है कि यदि परिवार में किसी की गाय ने इस दिन बच्चा दे दिया तो भी हरेला बोया जायेगा। उत्तराखण्ड में हरेले के त्यौहार को “वृक्षारोपण त्यौहार” के रुप में भी मनाया जाता है। श्रावण मास के हरेला त्यौहार के दिन घर में हरेला पूजे जाने के उपरान्त एक-एक पेड़ या पौधा अनिवार्य रुप से लगाये जाने की भी परम्परा है। माना जाता है कि इस हरेले के त्यौहार के दिन किसी भी पेड़ की टहनी को मिट्टी में रोपित कर दिया जाय, पांच दिन बाद उसमें जड़े निकल आती हैं और यह पेड़ हमेशा जीवित रहता है।आओ आज हम हरेला के पर्व पर हर कोई एक एक पौधा लगा कर उत्तराखंड की संस्करोतिक धरोहर को एक नया स्वरूप दें और देश दुनिया को हरा भरा रखने के लिए आज पर्ण करें।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

नन्दनी बर्थवाल, नई दिल्ली

178 Comments

  1. I’m not that much of a internet reader to
    be honest but your blogs really nice, keep it up!

    I’ll go ahead and bookmark your website to come back later.
    Cheers

  2. Hi there! Someone in my Facebook group shared this site with us so I came to give it a look.
    I’m definitely loving the information. I’m book-marking and will be tweeting this to my followers!

    Wonderful blog and terrific design and style.

  3. Hi, i read your blog occasionally and i own a similar one and
    i was just wondering if you get a lot of spam comments?

    If so how do you reduce it, any plugin or anything you can advise?
    I get so much lately it’s driving me insane so any support
    is very much appreciated.

  4. My brother recommended I might like this website. He was entirely right.
    This post truly made my day. You cann’t imagine simply how much time I had spent for this info!

    Thanks!

  5. This is very interesting, You are a very skilled blogger.
    I’ve joined your feed and look forward to seeking more of your magnificent post.
    Also, I have shared your website in my social networks!

  6. Hey! I just wanted to ask if you ever have any trouble with hackers?
    My last blog (wordpress) was hacked and I ended up losing many
    months of hard work due to no backup. Do you have any methods to stop hackers?

  7. Great beat ! I would like to apprentice while you amend your
    website, how can i subscribe for a blog web site? The account aided me a acceptable deal.
    I had been a little bit acquainted of this your broadcast offered bright clear concept

  8. Ahaa, its pleasant dialogue regarding this piece of
    writing here at this website, I have read all that, so at
    this time me also commenting here.

  9. Hey! I’m at work browsing your blog from my new iphone 4!
    Just wanted to say I love reading through your blog and look forward to all your posts!
    Keep up the superb work!

  10. Its such as you read my thoughts! You appear to grasp so much
    approximately this, like you wrote the ebook in it or something.

    I believe that you just can do with some percent to drive the message home
    a bit, but instead of that, this is fantastic blog. A great read.
    I’ll definitely be back.

    Also visit my homepage :: coupon organizer (Tanya)

  11. Greetings! I’ve been following your site for a while now and finally got the
    courage to go ahead and give you a shout out from Houston Tx!
    Just wanted to tell you keep up the good job!

    Here is my webpage cna certification course (Nichole)

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *