चीड़- नंदनी बड़थ्वाल, नई दिल्ली

चीड़- नंदनी बड़थ्वाल,नई दिल्ली

उत्तराखंड का 71 फीसदी हिस्सा जंगल है। जिसमें से 16 फीसदी हिस्से पर सिर्फ चीड़ के जंगल हैं, जो कि 34 हजार हेक्टेयर भूमि है। चीड़ खुश्क इलाके के पहाड़ी क्षेत्र में पाया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम पाइनस राक्सवर्गाई है। जो कि विलियम राक्सवर्ग के नाम पर आधारित है। चीड़  हिमालय का मूल वृक्ष है, जो कि 500 से 2000 मीटर की उंचाई तक पाया जाता है। हालांकि कई जगह पर 2300 मीटर तक भी देखा गया है।
चीड़ का पेड़ बहुत लंबा होता है। जो कि 30-50 मीटर तक भी पाया गया है। इसके तने की मोटाई दो से तीन मीटर तक होती है। इसकी खाल भूरे रंग की खुरदरी, मोटी होती है, जो उपर की ओर जाते जाते पतली व मुलायम हो जाती है। चीड़ की पत्तियां सुई के रूप की होती हैं, जो कि हमेशा तीन के गुच्छे में होती हैं।  जिसकी लंबाई 20- 35 सेंटीमीटर तक होती है। चीड़ का कोन अंडाकार होता है। जो कि 12- 24 सेमी लंबा और  5-8 सेमी चौड़ा होता है। कोन शुरू में हरा रहता है और लगभग दो साल बाद इसके भीतर बीज बनकर तैयार होते हैं। फिर यह भुरे रंग का हो जाता है। कोन के अंदर का बीच दो साल बाद बाहर निकलने लगता है, जब इसे गरमी मिलती है। यह गरमी जंगल में आग लगने पर मिलती है। चीड़ का बीज 8-8 मिमी लंबा और 40 मिमी लंबे पंख लिए होता है। वे पंख बीज को हवा में एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने में मददगार साबित होते हैं।
चीड़ को इमारती लकड़ी के लिए इस्तेमाल किया जाता है। हालांकि इसकी लकड़ी को बाकी कॉनिफॉर्स के मुकाबले कम पसंद किया जाता है। फिर भी इसकी मांग बहुत है। यह हिमालयी क्षेत्र में पाया जाता है। इसके साथ कोई अन्य पेड़ नहीं पाया जाता है। इस पेड़ में पाया जाने वाला ऐलिटोकेम किसी अन्य पेड़ को पनपने नहीं देता। चीड़ की पत्ती में मौजूद  राल (लीसा) जानवरों को स्वादिस्ट नहीं लगता है। इसलिए जानवर भी इसे नहीं खाते। अप्रैल में इसकी पत्तियां गिरने लगती हैं और बरसात होने तक गिरती रहती हैं। इससे जमीन पर 5-6 इंच तक मोटी परत बन जाती है। पत्तियां बहुत बारीक व पतली होने से बारिश का पानी भी नहीं रोक पाती हैं। बारिश का पानी पत्तियों के नीचे जाकर मृदा  अपरदन करता है। इससे चीड़ के जंगल की  अम्लीय मिट्टी दूसरे स्थान पर जमा हो जाती है  और वहां की वनस्पति को भी नुकसान  पहुंचाती है।
चीड़  की पत्ती में मौजूद राल इसे सडऩे-गलने भी नहीं देती है। इससे ये पत्तियां वहां एक परत के रूप में पड़ी रहती हैं। इसकी राल बहुत ज्वलनशील होती है और इससे जंगल में आग लगने का खतरा बना रहता है। कई बार देखा गया है कि अधजली बीड़ी- सिगरेट फेंक देने से ही जंगल में आग लग जाती है। आग की गरमी से इसके कोन से बीज तो बाहर आ जाते हैं, लेकिन  आग से जंगल तबाह हो जाता है। पेड़-पौधों व वनस्पति के साथ पशु-पक्षियों को भी भारी नुकसान होता है। कई बार तो जंगली जानवर रिहायशी बस्तियों में भी आ जाते हैं। ऐसे कई उदाहरण हैं जब तेंदुआ तक लोगों के घरों में घुस जाता रहा है।
इससे लोगों को घरों से निकलना मुश्किल हो जाता है।
इसके लिए जरूरी है कि जंगलों की आग रोकी जाए। कई जगह ग्राम पंचायत स्तर पर युवाओं ने फरवरी-मार्च के दौरान अग्निशमन समूह भी बनाए हैं। लोगों को जंगल में आग लगने से होने वाले नुकसान को लेकर जागरुक किया गया। ऐसा करने से आग लगने की घटनाओं में कम से कम 20 से 30 प्रतिशत कभी आ गई।
आज सूचना टैक्नोलोजी का जमाना है। गूगल अर्थ, जीआईएस, जीपीएस जैसी प्रौद्योगिकी का उपयोग कर जंगल की आग का  नक्शा तैयार हो सकता है। इसकी मदद से आग लगने के स्थानों को दिखा सकता है। इससे आग को नियत्रित करने में मदद मिलेगी। यह भी मालूम हुआ है कि कई गैर सरकारी संगठन चीड़ की पिरुल से बीक्रेट बना रहे हैं।  जो गैसीफायर चलाने में मदद करती है। गैसीफायर से बिजली पैदा की जा सकती है। पिथौरागढ़ जिले में अवाणी नाम की संस्था ने इस तकनीक का प्रयोग कर लोगों को बिजली उपलब्ध कराई है। यदि इस तकनीक का बड़े पैमाने पर उपयोग किया जाए तो जंगल की आग पर भी रुकेगी व प्रदेश का आर्थिक विकास भी होगा। लोगों को रोजगार भी मिलेगी।
चीड़ को यदि एक संसाधन के तौर पर देखा जाए तो उत्तराखंड में राल       (लीसा) दोहन का काम 1890 में शुरू हुआ। 1896 में तो इसका व्यावसायिक रूप से दोहन होने लगा था। 1940 में जम्मू-कश्मीर व 1945 में हिमाचल प्रदेश में भी दोहन शुरू हो गया।  इस राल से आसवन के बाद तारपीन निकाली जाती है, जो कि इत्र, दवाइयां बनाने से लेकर निस्संक्रामक कीटनाशक दवाइयां, साबुन, पॉलिस बनाने में काम आता है। भारत में उत्तराखंड और  जम्मू-कश्मीर की राल सबसे बेहतर मानी जाती है।
उत्तराखंड में चीड़ को बहुपयोगी पेड़ माना जाता है। बरसात में इसकी पत्तियों को पालतू पशुओं के नीचे बिछाया जाता है। चूंकि यह सड़ता-गलता नही है, इस पर पानी भी जमा नहीं होता है, इसलिए ये पालतू पशुओं को संक्रमण से बचाने में  मददगार साबित होते हैं। इसकी पत्तियों को अलग-अलग नाम से जाना जाता है। कहीं पिरुल तो कहंी सैली के नाम से जाना जाता है।
आदिकाल से ही चीड़ की लकड़ी को  मशाल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता रहा है। चीड़ का पेड़ खड़े-खड़े ही सूखा जाता है। उसमें मौजूद लीसा यानी राल कायांतरण के कारण क्रिस्टल रुप में जमा हो जाती है। इससे चीड़ के सबसे भीतर की लकड़ी चमकदार व खुशबूदार हो जाती है। इसे छिल्ला या जुकली भी कहते हैं। यह लकडी़  बारिश से गीली नहीं होती है। इससे यह बहुत आसानी से जलने लगती है। इसे कभी रात में आने-जाने के लिए मशाल के तौर पर इस्तेमाल किया जाता था। घरों में लकड़ी के चूल्हों में आग जलाने के लिए इसे ही उपयोग में लाया जाता है।
उत्तराखंड की तलहटी में लोग चीड़ के शंकु यानी  कोन को रंग करके पर्यटकों को बेचकर पैसा कमाते हैं। उत्तराखंड के बुजुर्ग बताते हैं कि पहले दीवाली में इन कोन को पटाखों के तौर पर भी इस्तेमाल किया जाता था। चीड़ की टहनियां अस्थमा के मरीज को इस्तेमाल के लिए दी जाती हैं। आयुर्वेद के डाक्टर अस्थमा के मरीजों को चीड़ के जंगलों में समय बिताने को कहते हैं। कभी टीबी के मरीजों को भी चीड़ के जंगलों के  बीच बने घरों में रखा जाता था। माना जाता था कि वे चीड़ के जंगलों की शुद्ध हवा से ठीक हो जाते हैं।
वास्तव में चीड़ एक पेड़ मात्र नहीं है, यह उत्तराखंड की संस्कृति का हिस्सा है। गढ़वाल में पांडवों से जुड़ी परंपरा के तहत पंडवा नाम का त्योहार होता है। इसमें पांडव नृत्य होता है, देवी देवताओं की पूजा होती है। त्यौहार कई दिन तक चलता है। अंतिम दिन चीड़ के एक पेड़ को गांव में लाया जाता है और पूरे पेड़ को स्थानीय फलों से सजाया जाता है। त्योहार खत्म होने पर इन फलों को प्रसाद के तौर पर सभी मेें बांटा जाता है।

 

 

 

 

नंदनी बर्थवाल , नई दिल्ली

96 Comments

  1. I’ve been exploring for a little for any high-quality articles or blog posts
    on this kind of house . Exploring in Yahoo I eventually stumbled upon this site.

    Studying this information So i am glad to exhibit that I have an incredibly excellent uncanny feeling I discovered just
    what I needed. I such a lot no doubt will make certain to do not omit this site and give it
    a glance on a relentless basis.

  2. Hi, I do think this is a great site. I stumbledupon it 😉 I’m going to revisit
    yet again since I bookmarked it. Money and freedom is the best way to change, may you be
    rich and continue to help other people.

  3. First of all I want to say excellent blog! I had a quick question in which I’d like
    to ask if you do not mind. I was curious to know how you center yourself and clear your mind prior to writing.
    I have had a tough time clearing my thoughts in getting my
    thoughts out there. I truly do enjoy writing but it just
    seems like the first 10 to 15 minutes are generally wasted simply just trying to figure out how to begin. Any suggestions or
    hints? Thank you!

  4. May I simply say what a relief to discover someone who truly
    knows what they’re talking about on the internet. You actually know how
    to bring a problem to light and make it important.
    A lot more people really need to check this out and understand this side of
    the story. I was surprised you are not more popular
    since you surely possess the gift.

  5. What’s up everyone, it’s my first go to see at this website, and piece of writing
    is in fact fruitful designed for me, keep up posting these types of articles
    or reviews.

    Feel free to visit my webpage: bingo xe88

  6. Greetings from Colorado! I’m bored at work so I decided to check out your blog on my iphone during lunch break.
    I really like the info you present here and can’t wait to take a look when I get
    home. I’m shocked at how quick your blog loaded on my cell phone ..
    I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, great site!

    my homepage: pusy888 (Sheldon)

  7. Saya akan segera pegang rss Anda karena saya tidak bisa

    Ini waktu tepat untuk membuat beberapa rencana untuk jangka panjang dan sekarang waktu untuk bahagia.
    Saya punya pelajari publikasikan ini dan jika saya boleh saya ingin menasihati Anda beberapa
    menarik masalah atau saran . Mungkin Anda bisa menulis artikel berikutnya mengacu
    pada artikel ini. Saya ingin membaca lebih hal tentang itu!

    My homepage :: Joker 123 net – gameaco.com,

  8. Oh my gߋodness! Awesome аrtiⅽle dude! Thank you soo much,
    However I am going through ɗifficulries with your RSS.
    I don’t understand thһe reasоn whhy I cannot joіn it.
    Is tһere anyone else getting the sɑme RSS problems? Аnyone
    that knows the solution will youu kinely respond?

    Thanks!!

  9. I know this if off tߋpic but I’m lookingg intο startіn my own blog annd waѕ wondering
    what all is needed to get setup? I’m aѕsuming hɑving a blog like yours would coѕt a pretty penny?

    I’m not very weƅ savvy so I’m not 100% sure.
    Any recommendations or advіce wօuld be greatly apprecіated.
    Appreciate it

  10. Hoᴡdy! I could have worn I’ve been to tthіs sit before but after
    going trough many of the poѕts I realizeⅾ it’s new tto me.
    Nonethelеss, I’m definitely pleased I found it ɑnd I’ll bе bookmarking it and checking back often!

  11. Attractive section of content. I just stumbled upon your web site and in accession capital to
    assert that I acquire actually enjoyed account your blog posts.
    Anyway I will be subscribing to your feeds and even I achievement you access consistently
    quickly.

  12. I was pretty pleased to discover this web site. I want to to thank you for your
    time just for this fantastic read!! I definitely really liked every part of
    it and I have you book-marked to look at new stuff on your web site.

  13. I will immediately clᥙtc you rss feed as I can’t
    in fіnding your email subscrіption link or newsletter servicе.
    Do уоս have any? Kindly permit me realize in order that I could subscribe.
    Thanks.

  14. Ꭱight here is the гight site for everyone who wishes to find out aЬout thіs topic.
    You know a whole lot iits almost tougһ to argue witfh you (not that I really will neeɗ
    to…HaHa). You certainly put a Ƅrand new spin on a topkc that has
    been diiscuѕsed for years. Excllent stuff, just great!

  15. We are a gaggle of volunteers and opening a brand new scheme in our community.
    Your web site provided us with useful info to work on. You’ve performed
    a formidable job and our entire group will likely be grateful to you.

  16. I love your blog.. very nice colors & theme.
    Did you make this website yourself or did you hire someone to do it for you?

    Plz respond as I’m looking to design my own blog and would like to know where u
    got this from. thank you

    Feel free to visit my web-site; 918kaya slot

  17. Thanks for a marvelous posting! I genuinely enjoyed reading it, you may
    be a great author. I will be sure to bookmark your blog and
    definitely will come back at some point. I want
    to encourage one to continue your great posts, have a nice holiday weekend!

  18. It’s in point of fact a great and useful piece of information. I am glad that you simply shared this helpful info with
    us. Please stay us up to date like this. Thank you for sharing.

  19. Hey would you mind stating which blog platform you’re using?
    I’m planning to start my own blog soon but I’m having a difficult time selecting between BlogEngine/Wordpress/B2evolution and Drupal.

    The reason I ask is because your design and style seems different then most blogs and I’m looking for something unique.

    P.S My apologies for getting off-topic but I had to ask!

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *