नौकरी –रजनी

नौकरी नौकरी लगी करा कुला दूर मसा मसा गे मुकी ही पढाई की पई गए एक नमी फाई अस ओइ गए बड़े मज़बूर नौकरी लगी करा कुला दूर चुकी अपना…

माँ–अनु अत्रि

माँ–अनु अत्रि पुच्छेआ इक दिन मैं माँ कोह्ला तू जो गल्ल करें बचपनै दी कुत्थें न ओह् मिट्टी दे टेह्ले कुत्थें न ओह् बच्चें दे रेले कुत्थें न अम्बै ने…

दिखो लोको– कल्पना खजुरिया, ऊधमपुर

दिखो लोको– कल्पना खजुरिया, ऊधमपुर कनून नराले इस दुनिया दे दिक्खो लोको। अपना अपने गी ख़ंजर मारे दिक्खो लोको। सच गी झूठ झूठा सच्चे गी किंया बनाना। ते तोर तरीके…

तिय्यां–Kalpana Kahjuria

तिय्यां–Kalpana Kahjuria ए पिड़ मन्ने दी औख्खी ए , जग्ग मेरे नांए दौख्खी ए , मन आखे पख़रु बनी उड़री जां, ते दरद दिले दे छुड़ी पुलां, ए टिस मनें…

पिड मने दी: कलपना खजुरिया

पिड मने दी: कलपना खजुरिया लोग अतथें कने दितदियां दनदें कने खोलदे, कोई अपना डंगे तांवी माड़ा नी बोलदे, फललरे पीड़ पांवे जिनी बी कालजे च, दुखडे़ दिलें दे बेरीऐ अगे…