नया साल 2017- मधु

नया साल 2017- मधु

..मयस्सर डोर से फिर एक मोती झड़ रहा है
..तारीखों के जीने से दिसम्बर उतर रहा है |…..
कुछ चेहरे घटे , बढ़े गुजरी कहानियों में,
लम्हों पे झिना झिना पर्दा गिर रहा है ।
गुनगुनी धूप और ठिठुरी रातें जाड़ो की,
उम्र का पंछी नित दूर और दूर उड़ रहा है ।…..फिर एक दिसम्बर गुजर रहा है
हरा कोपल लचका पिछले बसंत वो पत्ता ,
कुदरत का कायदा सिखा सूख झड़ रहा है |
चिंगारी हौले से सुलग आग बनी थी कभी ,
वो लावा किरदार राख बन उड़ रहा है |…….फिर एक दिसम्बर गुजर रहा है
मिट्टी का जिस्म एक दिन मिट्टी में मिलेगा ,
मिट्टी का पुतला किस बात पर अकड़ रहा है |
जायका लिया नही और फिसल रही जिन्दगी ,
आसमां समेटता वक़्त बादल बन उड़ रहा है |………फिर एक दिसम्बर गुज़र रहा है
( बचे चन्द दिन आपकी मनोकामना पूरी कर “विदा उपहार” देता जाए इन शुभकामनाओं के साथ ) MADHU writer at film writer”s association MUMBAI

28 Comments

  1. 615601 821681Soon after study a handful with the content material within your internet website now, and that i genuinely such as your method of blogging. I bookmarked it to my bookmark internet internet site list and are checking back soon. Pls look into my website as effectively and tell me what you believe. 163934

  2. 330440 625504Wow, wonderful blog layout! How long have you been blogging for? you make blogging look easy. The overall appear of your internet site is great, as properly as the content material! 580004

  3. 138116 550482Hi there, just became alert to your blog by way of Google, and identified that it is truly informative. Im gonna watch out for brussels. Ill be grateful in the event you continue this in future. Plenty of men and women will probably be benefited from your writing. Cheers! 717112

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *