साहब की आंखों में ख़ुशी का कीचड़ आ गया-Jai Prakash Tripathi

साहब की आंखों में ख़ुशी का कीचड़ आ गया-Jai Prakash Tripathi

‘साहब की आंखों में ख़ुशी का कीचड़ आ गया।’
‘इस पुराण ने हमें भव्य से भांड़ बना दिया ।’
‘साधना करनी पड़ती है कि ऐसे जुतियाएं, जूता और फूल में फर्क न किया जा सके।’
‘उनकी कुंठा के कुंड में अगर के मगर पले रहते हैं।’
‘श्रोताओं के संयम का बांध टूट रहा था। कई श्रोताओं की तो नींद भी टूट रही थी। वह वक्ताओं को इस तरह निहार रहा था जैसे कोई नवाब मुर्गों की लड़ाई देख रहा हो।’
‘देर तक पहने रहो तो जूता भी देह का अंग लगने लगता है।’
‘किसी लिखने वाले की मजाल कि नये लिखने वाले को अपूर्व, अद्भुत और अहा से कम कह दे–यह स्थिति सब धान बाईस पसेरी का नवीनतम भावानुवाद है।’
‘कितना अच्छा समय है कि लोग विचारों को बनियान की तरह पहने घूम रहे हैं।’
‘ज्योतिष एक ऐसी नदी है जिसमें असंख्य नाले खुले पड़े हैं।’
‘अपने शिविर में सुअर भी हो तो ऐरावत बताता है।’
‘हमारा तो धंधा ही कुंठाओं की कंठी पहनाने पर टिका है।’
‘प्रेम जूता खाने का सर्वोत्तम उपाय है।’
‘आप जिसे तेल लगा दें, वह आपके हांथों से फिसल नहीं सकता।’
‘मैं ‘दीनता ऐट द रेट ऑफ हीनता डॉट कॉम’ हो गया था।’
‘दुनिया का कोई भी यंत्र तुम्हारी आंखों में तैरती टुच्चई की मछलियों का फोटो नहीं खींच सकता।’
‘ऐसे ही उच्च विचारों से धीरे धीरे एक चिथड़ा संस्कृति का निर्माण होगा।’
‘परस्पर प्रशंसा वाली हिंदी की विराट मुर्दहिया में शवसाधना।’
‘तुम किसी भी तरह बोलो मगर अपनी तरह न बोलो।’
‘बेसिकली शब्द में सृष्टि का रहस्य छिपा है–ईश्वर तो बेसिकली लीला कर रहा था। और क्रमशः हमसब पैदा होते गये।’
‘दुख सबको मांजता है, तू मांजा जा रहा है ताकि चमक सके नये भारत में।’
‘जिन मित्रों से काम निकल चुका वे तेल निकाली सरसों की तरह हैं…खली ढोकर क्या करना?’

220 Comments

  1. Greetings from California! I’m bored to tears at work
    so I decided to check out your site on my iphone during lunch break.
    I love the knowledge you provide here and can’t wait to take a look when I get home.
    I’m surprised at how quick your blog loaded on my phone ..
    I’m not even using WIFI, just 3G .. Anyways, amazing blog! http://cavalrymenforromney.com/

  2. Have you ever considered about adding a little bit more than just your articles?
    I mean, what you say is fundamental and everything. However think of if you added some great graphics or
    videos to give your posts more, “pop”! Your content is excellent but with pics and video clips, this site could definitely be one of the most beneficial in its niche.
    Wonderful blog! https://hydroxychloroquinee.com/

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *