दिखो लोको– कल्पना खजुरिया, ऊधमपुर

दिखो लोको– कल्पना खजुरिया, ऊधमपुर

कनून नराले इस दुनिया दे दिक्खो लोको।

अपना अपने गी ख़ंजर मारे दिक्खो लोको।

सच गी झूठ झूठा सच्चे गी किंया बनाना।

ते तोर तरीके हुनर ए सारे सीक्खो लोको।।

घर घर बने मैदाने जंग ए दिक्खो लोको।

के निकके के बड्डे मर्यादा पंग ए दिखो लोको।

अपने सक्के बखले बगाने सब्ब इके खाते।

ते बेले बेले कढिएं कढिएं रंग बदलना सिक्खो लोको।।

खट्टा पेंदी बुड्ढी माँ पानी गी तरसे दिखो लोको।

पर गर्मी च छैल छबिलां पानी बरसे दिखो लोको।

घर बैठी मां भुक्खीभानी बलगे टब्बरे गी ।

ते मन्दरे मन्दरे जग्ग कराईये लोक रजाना सिखो लोको।।

मुह मिठ्ठे खण्ड मिश्री बर्फी दिखो लोको।

रूह कौड़ कसैली जेरु सिज्जी दिखो लोको।

मिठियाँ मिठियाँ गल्लां करिये जैर उगलना ।

ते माड़ी माड़ी अग्ग लौआना सिखो लोको।।

आज् ओखी दुनिया ओखे माह्नू दिखो लोको।

इरख महोब्बत दिल रिश्ते सब धानू दिखो लोको।

रूह रौंदी मेरी जख्मी मेरे अपने किती ।

ते हंसदे हंसदे रौन छपेलां कियां सिखो लोको……

74 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *