अपराधों पर कङे अंकुश की जरूरत-नीरू श्रीवास्तव

 

अपराधों पर कङे अंकुश की जरूरत-नीरू श्रीवास्तव
_______________________________
समाज के घिसे पिटे नियमों को दरकिनार करते हुए आखिर एक पीङित महिला ने सुप्रीमकोट॔ को चुनौती देते हुए 20 हफ्तों के बजाय 24 हफ्तों में गभ॔पात कराने की मंजूरी हासिल कर ली.तकरीबन एक महीने की जद्दोजहद के बाद सुप्रीमकोट॔ ने रेप पीङित महिलाओं के हक में एक बङा फैसला सुनाते हुए,मुम्बई की 24 हफ्ते की गभ॔वती महिला को गभ॔पात करेने की अनुमति दे दी.उल्लेखनीय है कि मेडिकल टर्मिनेशन ऑफ प्रेगनेंसी एक्ट 1971 के मुताविक 20 हफ्ते से ज्यादा गभ॔वती महिला के गभ॔पात नही हो सकता है.जहाॅ एक्ट 3 का सेक्शन कहता है कि 20 हफ्ते से ज्यादा होने पर गभ॔पात नही हो सकता है वही पर सेक्शन 5 कहता है कि अगर महिला की जान को खतरा है तो कभी भी गभ॔पात कराया जा सकता है.
मुम्बई की रेप पीङित महिला ने 1971 के एक्ट को असंवैधानिक करार देते हुए सुप्रीमकोट॔ को चुनौती दी थी और गभ॔पात कराने की माॅग की थी.महिला ने अपनी याचिका में कहा कि वह बेहद गरीब है परिवार से है.उसके मंगेतर ने उसे शादी का झाॅसा देकर रेप किया और उसे धोखा देकर दूसरी शादी कर ली.इसके बाद उसने मंगेतर के खिलाफ मुकदमा किया.कुछ समय उपरान्त जब महिला को अपने गभ॔वती होने का पता चला तो उसने कुई मेडिकल चैकअप कराए जिससे पता चला कि यदि वह गभ॔पात नही करवेएगी तो उसकी जान को खतरा है.
जैसा कि अक्सर समाज में होता आ रहा है.अपराधी तो बलात्कार जैसे जधन्य अपराध करके निकल जाते है.उन्हे कोट॔ अदालत या समाज का कोई भय नही होता है.उन्हे अपराध की सजा भी मिलेगी ये निश्चित नही होता है परन्तु ठीक विपरीत महिलाओं को कुल्टा और बेहयाई जैसे शब्दों का सामना करना पङता है.हर कदम पर उन्हे अपमानित होना पङता है.ज्यादातर गरीब महिलाए ही ऐसे अपराधों का शिकार बनती है और जब वो गभ॔वती होने पर डा.का दरवाजा खटखटाती है तो वहाॅ भी मोटी रकम न चुका पाने की बजह से उन्हे शर्मिन्दा होना पङता है या कानून का हवाला देकर और डरा दिया जाता है.इसी तरह इस महिला का भी 2 जून 2016 को डा.ने गभ॔पात करने से इंकार कर दिया.ऐ कहकर कि 20 हफ्ते से अधिक हो गये है.परन्तु उस साहसी महिला ने सारी याचनाए खारिज करते हुए आगे कहा कि 1971 में जब कानून बना था तब समाज में इस तरह की घटनाए बहुत कम सुनने में आती थी.आज समाज का परिवेश बदल चुका है.हमारे सरकारी बुद्धिजीवियों को कुछ कठोर नियम बनाने चाहिए जिससे रेप जैसी घटनाऐ ही न घटे तो महिलाओं को ए सब न देखना पङे
इससे पूव॔ सुप्रोमकोट॔ को के KE मेडिकल अस्पताल ने रिर्पोट सौपी थी जिसके बाद कोट॔ ने यह सराहनीय फैसला सुनाया.22 जून को मामले की सुनवाई के दौरान केन्द्र सरकार की तरफ से SG रंजीत कुमार ने सुझाव दिया था कि इस मामले में एक बोड॔ गठन किया जाए जो महिला की जाॅच कर तय करेगा कि उसका गभ॔पात किया जा सकता है या नही.इसके लिए AIIMS के डा.की एक टीम बनाई जाए जो महिला की जाॅच करेगी लेकिन याचिका कर्ता के वकील ने कहा कि पीङित महिला दिल्ली आने में असमथ॓ है तब महाष्ट्र सरकार के वकील ने कहा कि मुम्बई के KE मेडिकल अस्पताल में जाॅच हो सकती है जिसके बाद कोट॔ ने रिर्पोट दाखिल की थी.
भारत के मौजूदा नियमों के अनुसार 12 हफ्ते के भ्रूण का स्वास्थ संवंधी किसी एक डा.की राय पर गभ॔पात,तथा मानसिक चोट की स्थित में 2 डाक्टरों की सलाह पर 12 से 20 हफ्ते के बीच गभ॔पात संभव था वही कनाडा और चीन में किसी भी समय पर किसी भी स्थित में गभ॔पात की अनुमति प्राप्त है.ब्रिटेन में पहले से ही 24 हफ्ते की अनुमति थी.
बहुत शक्तिशाली परिवार और महिलाए ऐसे जधन्य अपराधों की स्थित में कमजोर पङ जाती है क्योकि समाज किसी भी तरह से बलात्कारी स्त्रियों को सम्मान से नहीं देखता फिर उनसे जन्मी औलादों को कैसे समाज स्वीकार करेगा ? अक्सर गभ॔ के शुरूआती समय में महिलाओं के शारीरिक परिवत॔न न होने के कारण गभ॔ का पता नही चल पाता है.और जब तक औरतें समझ पाती है तब मेडिकल साइंस कह देती है.अब तो समय ज्यादा हो गया.ऐसी स्थित में ज्यादातर महिलाओं को समाज का तिरस्कार सह कर रहना पङता है कुछ एक तो आत्महत्या जैसे कदम भी उठाने पर मजबूर हो जाती है.
संसद में बैठी शक्तिशाली महिलाओं को समाज में महिलाओं की ऐसी स्थित पर ध्यान देना चाहिए.रेप की शिकार हुई किसी भी महिला का स्वाभाविक जीवन जीना मुश्किल होता है.इन शक्तिशाली महिलाओं को ऐसी स्थित से महिलाओं को निपटने के लिए कङे कानून बनाने और उन्हे क्रियान्वित करने की माॅग करनी चाहिए परन्तु शायद वो शक्तिशाली महिलाए भी ऐसे अपराधों से भयभीत हो जाती है अतः वह त्वरित काय॔वाही करवाने के बजाय संसद और सदस्य सदमें में आ जाते है और बगले झाॅकने लगते है.लोग पीङिता के प्रति भाषण ही देते रह जाते है.आप सबको याद होगा हमारे एक पूव॔ प्रधानमंत्री के काय॔काल में तो लूटी इज्जत के लिए वाकायदा “बलात्कार बीमा योजना” तक लाने पर चर्चा हुई थी.महिला संगठनों और बुद्दिजीवियों की कङी आलोचना के बाद उस शम॔नाक प्रस्ताव को वापस ले लिया गया.
अक्सर देखा जाता है कि महिलाओं के साथ जितने भी अपराध होते है उन सब पर महिलाओं का नजरियाॅ ही पेश किया जाता है.आखिर पुरूषों का क्यों नही ? और यह हमारे समाज की परम्परा रही है कि पीङित स्त्री रेप जैसे घिनौने दंश से उबरना भी चाहे तो यह समेज ऐसा नही होने देता है परन्तु अब समय आ गया है जब कोट॔ के फैसले के साथ-साथ ऐसे घिनौने अपराधों के प्रति समाज भी अपना नजरिया बदल लें और पीङित महिलाओं को सम्मान दे तथा हर संभव सहायता करें.
उत्तर भारत बिहार,दिल्ली तथा हरियाणा में आए दिन ऐसी घटनाए सामने आती रहती है और अनगिनत ऐसी घटनाए होगी जिनको बदनामी के डर से उजागर ही नही किया जाता है या फिर आरोपियों द्वारा महिलाए आतंकित कर दी जाती है अतः सुप्रीमकोट॔ के इस फैसले से पीङित महिलाओं को एक नई दिशा मिली है जिससे कि वो बलात्कारियों जैसे पापों के अपराधों की गठरी को अपने सर पर ढोने के लिए बाध्य नही होगी.
Neeru Shrivasta is a freelance writer, poet at Samay Today , she is from Kanpur Uttarpardesh. Himalayanresources is thankful to her for the article.

317 Comments

  1. great publish, very informative. I wonder why the opposite
    specialists of this sector don’t understand this.

    You should continue your writing. I am sure, you’ve a great readers’ base already!

  2. Global Gerçek İnstagram Takipçi Satın Al
    Hem gerçek hem de kalıcı sosyal medya takipçisine ulaşmak oldukça zordur.

    Bu sayı 10 bin olduğunda çok daha zordur.
    Takip2018 uzman ekip üyeleri tarafından sağlanan gerçek ve kalıcı takipçiler ile sosyal medya hesabınız
    kısa sürede Keşfet sayfasında yerini alabilir.

    Siz de İnstagram takipçi satın al kategorisinde yer alan 10
    bin yurt içi ve yurt dışı takipçinin yer aldığı paketimizi tercih edebilirsiniz.

    Diğer tüm paketleri görebilmek adına instagram takipçi
    satın al linkimiz ; instagram takipçi satın al

  3. Whoa! This blog looks just like my old one! It’s on a
    entirely different subject but it has pretty much the same page layout and
    design. Great choice of colors!

  4. After checking out a number of the articles on your site,
    I truly like your way of writing a blog. I bookmarked it to my bookmark site list and will be checking back in the near future.
    Take a look at my web site too and tell me how you feel.

  5. You really make it appear really easy together with your presentation but I
    in finding this topic to be actually one thing that I believe I’d by no means understand.
    It kind of feels too complicated and very wide for me.

    I’m having a look forward in your next submit, I’ll try to get the dangle of it!

  6. Hello! Do you know if they make any plugins to safeguard against hackers?

    I’m kinda paranoid about losing everything I’ve worked hard on. Any
    suggestions?

  7. It’s the best time to make some plans for the future and it’s
    time to be happy. I have read this post and if I could I want to suggest you
    few interesting things or suggestions. Perhaps you can write next articles referring to this article.

    I wish to read even more things about it!

  8. Its like you learn my thoughts! You appear to grasp so much approximately
    this, such as you wrote the ebook in it or something. I believe that you can do with
    a few % to force the message house a bit, however other than that, that is
    wonderful blog. A fantastic read. I’ll definitely be
    back. quest bars http://bit.ly/3C2tkMR quest bars

  9. Good day very nice web site!! Man .. Excellent .. Superb ..
    I will bookmark your blog and take the feeds additionally?
    I am glad to search out a lot of useful info right here within the
    submit, we need work out extra strategies in this regard, thanks for
    sharing. . . . . . cheap flights http://1704milesapart.tumblr.com/ cheap flights

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *